Friday 5 September 2008

फिराक के निशान




Firaq Gorakhpuri's real name was Raghupati Sahay। He was born in 1896 in Gorakhpur, India. He left his imprint on three important genres of Urdu poetry - ghazal, nazm and rubaayee. He wrote more than 40,000 couplets. He was a poet of love and beauty. His poems are published in three anthologies - Rooh-o-Qaayanat, Gul-e-Ra'naa, Nagma-numaa. He passed away in 1982.



-----------------------------------------------------------------------------------------------


थर_थरी सी है आसमानों में
ज़ोर कुछ तो है नातवानों में

कितना खामोश है जहाँ लेकिन
इक सदा आ रही है कानों में


कोइ सोचे तो फर्क कितना है
हुस्न और इश्क के फसानों में


मौत के भी उड़े हैं होश
जिंदगी के शराबखानों में


जिन की तामीर इश्क करता है
कौन रहता है उन मकानों में

इनही तिनको में देख ऐ बुलबुल
बिजलियाँ भी है आशियानों में
-----------------------------------------------------------------------------------------

No comments: